आत्म मंथन

आत्म मंथन

सोचता ही रह गया सारी ज़िन्दगी की मेरे भी दिन आयेगे , जब आयेगे तो लोग देखते रह जायेगे ,

न होगा कोई ओऱ छोर, होगे जगमग बादल चारो ओऱ ,

दीये उम्मीदों को टीम टिमटिमाये गे, मुस्कान के फूल लहलहाए गे ,

जो ख्वाब देखा था सब पूरे हो जायेगे |

 

पीछे देखता हुँ, तो बस पता हुँ अधूरे ख्वाब, टूटी उम्मीदे  और सिसकते आप ,

चाह कर भी न पाया खुशियो की डोर ,पर फसा पाया  खुद को हर ओऱ ,

पैबंद लगी उम्मीदों से क्या ज़िन्दगी गुजार पाउँगा ,सोचता हुँ की शायद कर ही न पाउँगा  |

 

 

कोई साथ नहीं अब मेरे, सब चले गए अपनी – अपनी ओऱ , मै मझ धार  जहाँ से न कोई ओऱ छोर ,

क्या करू ..? क्या विलाप करू ..?, या करू ब्रह्म हत्या,

कैसे खुद को मुक्त कराउ, कैसे उम्मीदों  की चुभन से खुद को बचाऊ ,

शायद  यही है अंत मेरा और ऐसे ही मै विश्व को अपनी कथा सुनाऊ |

 

तभी आत्मा बोली ” मुर्ख क्यों बिखरते जाते हो ..? क्यों  प्रारम्भ में ही अंत को बुलाते हो,

क्या हुआ जो तुम्हारे स्वप्नों की हुई आहुति , क्या हुआ जो तेरी अभिलाषाओ की न हुई इतिश्री,

क्यों घबराते हो , न कुछ खोया, न कुछ पाया , तो फिर क्यों विलाप करते जाते हो ,

उठो और नव दिवस में,नया विकासः  करो , नए  दिन से ने स्वप्न का आभाष करो |

 

टूटे दिल में धार नहीं होती, और लड़ने वालो की हर नहीं होती |

जाओ , जो न मिला उसे भूल जाओ , जो मिल सकता है उसे ले कर आओ |

हार गए तो भी योद्धा कहलाओगे , गर जीत गए तो जो चाहा था पा जाओगे |

तब अब मुस्कुराओ और फिर लड़ने जाओ |”

 

                          © Abhishek Yadav 2015

Advertisements

Author: Free Spirit- Abhishek

I am a free spirit. I am living human because I not only see this entire world but also react, the response on impulses after my own observation and analysis. I write because, I see and all thing which is around me and I reacts on those small and big impulses, desires, ideas, and motivations. there are many stories, many ideas, many thoughts are in my mind, which I share via my blog My philosophy is to share what is I see, what I feel, what I imagine, what I react with people all around me, somewhere out, freelining somewhere far from me, rather than keeping within me.

2 thoughts on “आत्म मंथन”

I am waiting for your feedback -

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s