Hindi

जीवन

tree-of-life-wallpaper
जीवन

सीधी रेखा मे चलना चाहता हू जीवन मे, पर जीवन तो है रेखाओ का जाल,

जितना सुलझाने की कोशिश करता , उतना बिखरता ये मकाड़जाल ,

रोज नयी कहानी, रोज नयी परेशानी, जीवन साँसो की आधा- प-ती ,

रोज -रोज संघर्ष की कहानी, जो खतम ना हो पाती |

 

समस्याए है अनंत, अकट्टये, अपरंमपार,

 पर  इन से निपत का की संघर्ष है, जीवन का सार ,

जो भी जीवित है, उसकी जीवन मे संघर्ष रोज नया, जिस दिन बिखरे उस दिन जीवन ही कहा…?

जो भी मैने जीवन सी सीखा बतलता हूॅ, संघर्ष से मत डरो ये ही कह पता हूॅ |

 

जो संघर्ष किया तो ही आगे बढ़ पाओगे , बिन संघर्ष रेंगते रह जाओगे,

जो आगे ना बढ़े , उपर ना उठे , तो जीवन क्या …?

क्या सीखोगे , क्या दूसरो को संघर्ष स्मरण बतलोगे ..?

 

मृतक ही आराम से सोते है ,

 आराम से रह पाते है, जो जीवित है वो ही संघषो से गाथाये बनाते है ,

उठ जाओ भरो फिर से नयी चाल ,

बताओ परिस्थितीयो को अपने लड़ने से जीवित होने का हाल |

                                                   © Abhishek Yadav 2015

                                           image source www.google.in

Advertisements
Hindi

ज़िन्दगी

ज़िन्दगी.....
ज़िन्दगी…..

जितना तुम्हे सवारने की कोशिश की,उतना ही तुम बिखर जाती हो,

ये ज़िन्दगी मुझे ज़रा बताओ, क्यो रेत सी मेरे हाथो से तुम छूट जाती हो |

 

रोज कोशिशे करता हु तुम्हे सिरहाने रख पाने की,

पर न जाने क्या तुम्हारी नियत है, रोज उड़ जाने की ,

न चाहता हु तुम्हे काबू करना, ना ज़रूरत समझी कभी तुम्हे बरगलने की |

 

हर रोज बनती हो, रोज बिगङती हो,

हर रोज तुम्हे ज़रूरत है, नया फलक दिखलने की ,

हर रोज नया रंग, नया रूप देखा,

वो भी देखा;जो कभी नही सोचा था तुमसे पाने की |

 

फिर भी; फिर भी…ना कभी तुम से उबा, न ही थका,

न ही कभी कोशिश की तुमसे दूर जाने की ,

कभी फ़ुर्सत मिले तुम्हे;

आओ ज़िंदगी कभी मेरे पास, मेरे आगोश मे,

कुछ बाते है तुमसे समझने और समझाने की |

 

इंतेज़ार मे हू तुम्हारे,

क्यो की फ़ितरत  है मेरी सवरने की और तुम्हारी बनाने की…|

                                       ©Abhishek Yadav 2015

                                                     image source www.google.com