Hindi

संदूक

आज भी सुबह के गुलाबी चमकीले बादलों के टुकड़ो को ,
टुकर टुकर देख कर याद आया ,
क्या अजीब सा शौक दे गयी तुम ,
हमारे ख्वाबो के रंगीन , कांच से चमकीले टुकड़ो को,
तुम्हारी गर्माहट में लपेट कर , यादो की संदूक में ,
तह लगा लगा कर रखना।

 

और बीच बीच में खोल कर देखना संदूको को ,
जब लगे खुद की अंदर कुछ कुछ ,
काला, सियाह अँधेरा ,
कमी गुलाबी चमकीली यादों की ।

आज भी तुम्हारी छोड़ी हुई यादो की संदूक रक्खी है,
तुम्हारी मर्ज़ी का भुरभुरा ताला लगा कर ,
अटारी पर दबा कर,

 

मेरी तो ,
हिम्मत ही नहीं पड़ती संदूक कभी खोलने की ,
खुलने पर न जाने कौन सा बदल तुम्हारी यादों का ,
बहार आ जाये , और लगे बरसने ,
मेरी आँखों के कोर से ।

 

बस इतनी गुजारिश है , कभी आ कर ,
इस संदूक को ठिकाने लगाती जाना ।

 

© Abhishek Yadav- 2018

Image source- www.google.com 

Advertisements
Hindi

पनोती

कुछ तो बात होगी तुम में ,
हज़ारो शमा के बीच में रहकर भी ,
तुम्हारी रौशनी की यादें, आज भी चटकती है,
सुनहरी रेत आज भी , आँखों के कतरे से बहती है ,
पर चुभती नहीं है ।

 

 

खास तो है तुम में ,की मेरे यादो के भवर के ,
बीचो बीच में तुम हो ,
यु ही इश्क़बाज़ी, का समंदर आ कर तुम पर सूख गया |

 

 

ऐसी ही बाते , बहुत सी, बतलानी, समझनी थी तुम को,
पर तुम तो जानती हो ,
निगाहे मेरी ठहरी पनोती,
लग गयी मुझको ,
जिस रोज तुम्हे आँखो में बिठा के आईना देखा था ।

 

 

अब क्या कहुँ, जाते जाते ;
जरा अपनी यादों के कसक की दवा बताती जाना ,
बड़ी टीस मचती है अकेलेपन में ।

 

© Abhishek Yadav- 2018

www.google.co.in

 

Hindi

चाँद का टुकड़ा

कभी चाँद का टुकड़ा हुआ करती थी तुम ,
पर देखो तो आज ,
बस टुकड़ा ही टुकड़ा बचा है ।

 

चाँद तो मेरा , खो गया है,
अपने ही चकमक उजाले में ।

© Abhishek Yadav -2018

Image source- www.google.com

Hindi

प्रतिकर्षण

अंतर पड़ता है ,जब सूरज चमकता है , और मंद हो जाता है ।
जब चाँद रौशनी देता है , और जब छुप जाता है ।
हवाओ के होने और न होने पर कमी महसूस होती है ।
जब कुछ भी बदलता है , हमारे चारो ओर,
तब कमी साफ साफ दिखती है ।

 

 

मेरी, और तुम्हारी ,और हम सबकी आदत है ,
अपने लोगो को इतना अपना मान लेने की ,
वो हमसाया सा ,बन जाते है , हमारे लिए  |

 

 

पर ; साये की की कमी महसूस होती है ,
अपनी घुउप अँधेरी रात में;
जब आप और आप की सासों के दर्मया कोई भी नहीं होता ।

 

 

गलती मेरी थी, की तुम्हे इतना माना , की “खुद आप” ही समझ बैठे,
पर अफ़सोस ये भूल बैठे की , ज्यादा नज़दीकिया ,
धकेलती भी है एक दूसरे दूर , कभी कभी काफी दूर तक।

 

 

तुम ही देख लो तुम्हारे “प्रतिकर्षण” का नतीजा ,
आज हम सिर्फ एक दूसरे को दूर से देख सकते है ,
क्यों की एक शांत नदी बह रही है हमारे बीच ।

 

©Abhishek Yadav -2018

Image Sourcewww. google.com

Hindi

अनंत  की ओर

कुछ नहीं ,क्या और कहे ;
बस ख़ामोशी है , जो बोल रही है ।

 

हजारो की भीड़ है मेरे चारो ओर, फिर भी कुछ दूरी है;
जो बन रखी है, दरम्यान मेरे और लोगो के ।
कुछ है भी नहीं मेरे और उन लोगो के बीच ,
फिर भी खइया खुदी पड़ी है ; मेरे और लोगो के बीच ,
बे बेबस सा खड़ा खुद को देखता सा रहता हूँ।

 

न जाने क्यों ऐसे हालत बन गए है, की
वीराना भी फुसफुसाता से सुनाइए पड़ता है ,
शायद कुछ कुछ चुगलियाँ सा महसूस होता है ।

 

 

बहुत कुछ धुंधला ; सिला सिला सा घूमता है ;
मेरे चारो ओर , कुछ घुटन सा भरा ।

 

बस एक साथ है जो मेरे वो , मेरी धड़कने है ,
बस ताल बजाती ज़िन्दगी की ,
कुछ नज़्मे सुनती रोशनी की ,

 

बस इसी रौशनी के डोर लेकर चलना है ,
और चलते जाना है , अपना सहारा खुद बन कर ,
न किसी के लिए , न किसी को ले कर ,
बस आगे खुद को किये ।

 

बस एक यात्रा करनी है ,
खुद से खुद की ,
खुद से खुद के लिए ,
बस चलना है ,
अनंत  की ओर |

 

© Abhishek Yadav- 2018

Image source www.google.com

Hindi

जीवन मरीचिका

कुछ अनजान रास्तो पर बिन निशान खोजते हुए चलते जाना ।
चलते जाना जबतक पाँव साथ दे ,
देखते रहना चारो ओर,
जिस तरफ भी रौशनी देखलायी पड़े ।

 

 

कुछ कोहतूल और कुछ संशय लिए अपने दिल में ,
कंधो पर ढोये हुए , अपनी जिम्मेदारियों के बस्ते को ,
और जेब में रखी कुछ चमकीले ख्वाहिसे ,
बस बढ़ते जाना ,
बस चलते जाना है ।

 

 

और जब भी रुक जाना , तब ढह जान खुद पर ,
जब लोट जाना इस ठंडी पथरीली ज़मीन पर ,
तब याद करना , अपने संस्मरणों को,
खगालना अपने कंधे के बस्ते की रौशनी को,
सूंघना अपनी मुड़ी तुड़ी देह को ।

 

 

तब जा कर जो हासिल होगा ये सब गलाने,
जलाने के बाद , उठा लेना वो सब,
क्यों की वो ही सारांश है ,
तुम्हारे और मेरे जीवन का ।

 

 

ये दोस्त , हमारी तुम्हारी यात्रा ही जीवन है ,
ये मंजिल तो बस मरीचिका है |

 

© Abhishek Yadav- 2018

Image Source- www.google.co.in

Hindi

कालजयी अटल

कालचक्र की अनंत परिधि में सब कोई पीस जाता है ।,
जो काल के कपाल पर अमरबेल बन कर बैठा वो अटल है ।

जो दृष्टि प्रारगम्य हुआ वो तो नश्वर शरीर है,
जो कुछ बचा तुम्हारे मेरे अंत पटल पर वो अटल है ।

स्तब्ध तो मैं भी हु, निशब्द तो मैं भी हूँ, पर जीवन तो चलायमान है,
जीवन धारा में सब गतिशील है , पर अब जो नहीं है वो अटल है ।

कोटि कोटि प्रणाम, दंडवत विदाई ,

©Abhishek Yadav-2018

Poetry

You dear lady …

 

Whenever in need, you were closer to me,

Presented, even not needed,

In countless forms, infinite relations, uncountable meanings;

You were somewhere around me, imminent to me.

 

 

Life couldn’t be nurture without you,

Neither living can go on without you.

When you are with me, I feel complete,

Without you I am hollow, sounds empty.

 

 

Proclaiming myself the strong is my obligation,

Allowing me to feel stronger, your gratitude;

I feel rock solid because you show superficial to me.

 

 

I am stronger, from you,

I am weak, that too also from you;

I measure; I resemble, I compare all of you,

Independently, solitary, I don’t have existence,

For my own existence, I need your presence.

 

 

Words are infinite; emotions are endless, honor towards you endless,

 can’t conclude, just in simple words…

Ladies Without You Men Are Nonexistent

 

 

Dedicated to my Mother, My Siter and all women whom i know and don't

© Abhishek Yadav 2018

Hindi

वन्दनीये

जब जरुरत होती है, होती हो तुम कही ,

जब जरुरत नहीं भी होती है , तो तुम ही होती हो ;

न जाने कितने रूपों , कितने व्यक्तित्व्यों , कितने सम्बन्धो में;

कब से, कहाँ से, मेरे साथ बनी हो।

 

 

जीवन  न तुम्हारे बिन सुरु हो सकता है ,

न ज़िंदगी तुम बिन चल सकती है ;

तुम्हारे होने पर लगता है खुद का पूरा होना ,

तुम्हारे बगैर ,कुछ कमी सी खटकती है ।

 

 

पुरुष हो कर न कमजोर होना मेरी तो मज़बूरी है ,

और मुझे मजबूत होने देना तुम्हारा बड्डपन है ;

मेरा खुद को फौलाद दिखाना तो  छलावा है ,

क्यों  की तुम ने हमेशा खुदको कमज़ोर दिखाया है ।

 

 

 

मैं मज़बूत हूँ, तो तुम से हूँ ,

मैं कमज़ोर हूँ तो तुम से हूँ ,

मेरा कोई स्वतंत्र अस्तित्व नहीं ,

मेरा अस्तित्व पाने के लिए भी , तुम्हारा अस्तित्वे जरुरी है ।

 

 

भावनायें तो असीमित , अपरिमित , अतुलित है ;

बस तुम्हारे लिए  एक शब्द…

नारी तुम वन्दनीये हो ।

 

मेरी माँ , मेरी बहन और उन सारी महिलाओं को सो समर्पित जिन्हे मैं जानता और नहीं जानता हूँ ।

© Abhishek Yadav 2018

Image source – www.google.co.in

Poetry

Long Distance Relationship

When we don’t talk is this the distance?

When we don’t ask how we are is this the distance?

When we don’t contact our eyes is that is the distance?

When we ignore each other is that is the distance?

 

Distances are not gap of physical measures,

Distances are not gap in understanding,

Distances are not gap in mutual admiring,

Distances are not gap of judgments,

 

Distances are when we couldn’t understand each other’s silence

Distances are  when we can’t respect our diversity,

Distances when we overlook learning from our mistakes,

Distances are when we don’t  encourage each other,

 

Distances are not distanced till it only in mind of each other,

Distances are not distanced till we defend each other,

Distances are not distanced till we struggle for each other,

Distances are not distanced till we  motivate each other,

 

There is distance between the earth and moon,

Still, they are in relationship with  each other, from very long distance,

Yet, they are in harmony, in love, in affection, in a relationship,

Yes because they  are in a true relationship,

In Long distance relationship.

 

©ABHISHEK YADAV -2018

Image source www.google.co.in