Hindi

एक टुकड़ा आसमान का

267675

अरमानो को गुबार ठुसे पड़े है, रूह में ,

कुलबुलाते , बुलबुलते ,लबरेज , छलछलाते,

बड़े अरमानो से सींचे ,

कही दफ़न न हो जाये , मेरे साथ मेरी कब्र में |

हो सके तो एक टुकड़ा मुझे दे देना आसमान का ,

छोटे सुर्ख बादलों वाला ,

आरज़ू-ए-ज़िन्दगी समझ कर मेरे खुदा |

हो सके मेरे अरमानो की स्याही ,

गुलाल बन बरसे किसी और की ज़िन्दगी पर |

1082113305

© Abhishek Yadav 2016

Image Source – www.google.co.in