Hindi

मेरी जरुरत है मुझे

लोग आते है , लोग जाते है ,

कभी झुंडो में , कभी अकेले ,

कभी लंबी दूरी के लिए , कभी छड़ भर ,

इन सब संगत, मेल-मिलाप ,आवागमन कुछ साथ रह जाता है तो,

मैं और मेरा साथ |

 

मेरा साथ है जबतक मुझसे  ,

तो इस लोगो के रेलम-रेल , धक्कम-धक्का , अवतरण- गमन ,

इन सब से कुछ नहीं बदलता , और न बदलेगा,

 

तभी तो काट रक्खा है , खुद को; अकांछाओ ,संबंधों ,नातेदारों ,उम्मीदों  और ,

समाज और रिश्तो को मायाजाल से, अगर उलझा, तो खुद को न सुलझा  पाउँगा,

और खुद ही खुद से जुदा होता  जाऊंगा,

 

तभी तो चलते रहना मेरी मज़बूरी , मेरी जरुरत है ,

ठहराव मेरी कमजोरी है , चलो मैं चलता हूँ ,

मेरी जरुरत है मुझे |

© Abhishek Yadav -2017

Image Source- www.google.co.in

I am waiting for your feedback -

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s