Hindi

मैं इंतज़ार कर रहा हूँ …..

 

इस छितिज के उस पार, और इंद्रधनुष के पहले ,
जहा पर वक़्त की पहुच नहीं है , और दिशा शून्य है ,

उसी जगह जहाँ से सूरज अपनी चमक भरता है,
और रात अपनी काली केचुली उतरती है ,

उसी चट्टान पर , जिसके नीचे तारो की गर्द दबी है,
और जहाँ पर पुरवा हवा आ कर के रुक जाती है,

 

 

ठीक उसी जगह पर ,
जहाँ तुमने मुझे रुकने को बोला था ,
जल्दी आना ,
मैं तुम्हार इंतज़ार कर रहा हूँ,

 

 

© Abhishek Yadav 2016

Image Source – www.google.co.in

I am waiting for your feedback -

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s