Hindi

बेबसी

           1

​बहुतो की फितरत आज है ,मुझ सी।

देखने को सबकुछ है,पर खरीदने को कुछ भी नहीं।

        2

आज नाज़ है अपनी गरीबी पर,

कम ही पैसे है, पर नींद पूरी है।

      3

कुछ सकून है, बहुतो को खुद सा बेबस देख कर,

क्या हालत होती है, जब अरमान भरे हो, और बटुए खाली

#कालाधन,9 Sep 2016

I am waiting for your feedback -

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s