मैं तो सागर हुँ

हर अनछुई लहर जो तुम तक नहीं पहुंच पाती है |

मुझे वो बतलाती है |

 

अभी और जरुरत है ,वेग की , तपन की, तड़पन की ,

अभी और ताज़गी देनी होगी , अरमानों को ,

अभी और उमंगें चाहिए ,प्रयासों में,

चपलता साहस में,

और विस्वाश  अपने प्रेम में |

 

पर मैं नहीं हरता, मैं नहीं थकता , और मैं नहीं रुकता ,

मैं भेजता हुँ, फिर भी , और भी ,

उन्नत , अपरिमित , अपराजित  लहरें,

और वेग,और विस्वाश ,

और उम्मीदों  के साथ ,

तुम्हे चूमने , तुम्हे अपनी आगोश में भरने ,

अपने आप में मिलाने ,

और ले  चलने  के लिए , अंतहीन प्रवास में |

 

और में ये करता रहुंगा, जब तक,

तुम मुक्त न हो जाओ ,

अपनी बनायीं सीमाओं से , अपनी ज़मी  से,

अपनी आत्म संघर्ष से , अपने आप से ,

मैं तो ये करता रहूँगा , मेरा तो ये काम है

क्योकि मैं तो सागर हुँ |

 

© Abhishek Yadav 2016

Image source – www.google.co.in

Advertisements

Author: Free Spirit- Abhishek

I am a free spirit. I am living human because I not only see this entire world but also react, the response on impulses after my own observation and analysis. I write because, I see and all thing which is around me and I reacts on those small and big impulses, desires, ideas, and motivations. there are many stories, many ideas, many thoughts are in my mind, which I share via my blog My philosophy is to share what is I see, what I feel, what I imagine, what I react with people all around me, somewhere out, freelining somewhere far from me, rather than keeping within me.

1 thought on “मैं तो सागर हुँ”

I am waiting for your feedback -

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s