आज की रात

आज रात जब चांदनी अपनी रौशनी फैलाएगी,

जब तारो की लड़िया बलखाएगी,

जब हवा बहार बन जाएगी,

जब रात की रौशनी और स्याह हो जाएगी,

जब आकाश की टिम-टिम  अपना  गीत गुनगुनायेगी,

जब महक, अँधेरे की वक़्त पर फैल जाएगी |

 

जब तुम अपने सिरहाने मखमल की पंखुड़िया लगाओगी,

जब तुम बर्फ सी  ठंडी चादरें बिछाओगी,

जब तुम सपनो की चासनी में आओगी  ,

जब तुम  अपने आप को  वक्त के आगोश में देने, जाओगी |

 

lucid-dreaming

बस उसी वक्त , अपनी खिड़कियाँ खुली रखना , आज की रात ,

 मैं  आऊंगा , होकर अँधेरे के अश्व पर सवार ,

महसूस करने  वक्त की सुंदरता ,

तुम्हारी  चाँद से सादगी ,

तारो सा ठंडापन ,

महसूस करने वो रेशमी  साँसे,

देखने कंचन आभा ,

सुनने प्राण-वायु का संगीत ,

छु लेने अनुपम आभा |

 

बस मैं आऊंगा जब तुम सपनो में होगी ,

और मैं वापस चला जाऊंगा ,

जब तुम मेरे सपने में होगी,

पर मैं आऊंगा , आज की रात |

 

 

 

© Abhishek Yadav 2015

Image Source- www.google.co.in

Advertisements

Author: Free Spirit- Abhishek

I am a free spirit. I am living human because I not only see this entire world but also react, the response on impulses after my own observation and analysis. I write because, I see and all thing which is around me and I reacts on those small and big impulses, desires, ideas, and motivations. there are many stories, many ideas, many thoughts are in my mind, which I share via my blog My philosophy is to share what is I see, what I feel, what I imagine, what I react with people all around me, somewhere out, freelining somewhere far from me, rather than keeping within me.

1 thought on “आज की रात”

I am waiting for your feedback -

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s