जीवन-युद्ध

 

वर्षो के संघर्ष  के बाद , आत्मा के अथक प्रयासों के बाद ,

परिस्थितयो के भयावह झंजरवातो को सहने के बाद ,

रक्तरंजित  सम्बन्धो की छति के बाद,

अर्वाचीन नविन अनुभवों के बाद ,

आत्मतृष्णा, आत्मतुष्टि के बाद ,

व्यक्तित्व के टूटने के बाद,

जीवन-आधार खिसकने के बाद,

उत्थान पतन के संघर्सो के बाद ,

माया मोह के ज्ञान के बाद  |

 

 

अथक पुरुषार्थो और अकथ्य कर्मो के बाद भी ,

शून्य मिला,

विस्तार-हीन,आयाम विहीन ,ब्रम्हांड दर्शन  के बाद,

स्तब्ध्द खड़ा ,

जो कर्म , बोध ,ज्ञान, जय, विज्ञानं, दर्शन , सब अर्जित कर,

आज लूटा  मिटा ,

शौर्य,यश ,कीर्ति ,साहस,प्रेरणा , अनुशासन , के बाद भी,

दिशाहीन  पड़ा,

इन सबके  बाद भी वहीँ आ खड़ा , जहाँ से की थी , जीवन की शुरुवात  |

 

 

पर इन कोलाहल , उठा पटक ,जय पराजय ,के बाद भी ,

मेरा कर्मयोग ,मेरा हठ्योग ,मेरा पुरुषार्थ ,है मेरे साथ खड़ा ,

चलो आज से ,अभी से ,नए जीवन युद्ध की दुदुंभी, बजाऊंगा ,

नव प्रयासों ,नव योग ,से जीवन का चक्र चलूँगा  |

 

अब की करनी है लड़ाई परिस्थितयो आर पार,

अगर परास्त भी हो गया , तो भी हार मन के न बैठ जाऊंगा ,

अगली बार फिर से जीवन-युद्ध के नक्कारे बजाऊंगा  |

 

 

9-quotes-struggle

© Abhishek Yadav 2015

Image Source – www.google.co.in

Advertisements

Author: Free Spirit- Abhishek

I am a free spirit. I am living human because I not only see this entire world but also react, the response on impulses after my own observation and analysis. I write because, I see and all thing which is around me and I reacts on those small and big impulses, desires, ideas, and motivations. there are many stories, many ideas, many thoughts are in my mind, which I share via my blog My philosophy is to share what is I see, what I feel, what I imagine, what I react with people all around me, somewhere out, freelining somewhere far from me, rather than keeping within me.

1 thought on “जीवन-युद्ध”

I am waiting for your feedback -

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s