Hindi

मेरी गुल्लक

मेरी गुल्लक
मेरी गुल्लक

बड़ी इच्छा से रखी थी मैंने एक गुल्लक मेरी ,

सपनो की कौड़िया जोड़,

कुछ तारो को तोड़,

कुछ उम्मीदों के करारे नोट मोड़,

कुछ गलतियों के खोटे सिक्के खंगोड़,

बड़ी मेहनत, चाहत से अपने सपनो की पूंजी जोड़ी |

 

 

वक़्त बिता,

सपने पलते  गये, गुल्लक भारी होती गयी,

सालो बिताये मैंने,

ख्वाब जोड़ते ,तंग-हाथ अरमान मरोड़ते,

दशको बाद मैंने अपनी गुल्लक तोड़ी,

बड़े चाव से, सोचा चलो , गिनु  मेरे  सपनों को,

मैं काँपा, सकपकाया ,कुछ घबराया ,कुछ लजाया और फिर मुस्कुराया |

 

ख्वाब तो मेरे उतने ही थे , जितने मैंने अपनी आँखों में सजोये थे,

वो उतने ही रुपहले , सुर्ख ,अनोखे थे , जितना मैंने रख छोड़े थे,

बदला था तो, वक़्त बदला , मैं बदला , था बदला मेरे सपनो का दायरा बदला |

 

अब मुट्ठी  भर, कोरे सपनों से कुछ नहीं मिलता,

दुनिया अब मँहगी हो चुकी है , अब महंगे  सपनों चाहिए,

अब फिर से मैंने गुल्लक खरीदी है,

बड़ी वाली,

ताकि और महँगे, बड़े सपने रख सकु अपने पास,

ताकि अगली बार फिर से मेरे सपने कम कीमत के न रह जाये,

हाँ मैंने बड़ी वाली गुल्लक ख़रीदी है |

 

 

© Abhishek Yadav 2015

Image source – www.google.co.in

3 thoughts on “मेरी गुल्लक

  1. Your dedication, enthusiasm and insight are really inspiring. I wish you many years of great achievement

    Like

I am waiting for your feedback -

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s