Hindi

तुम्हारे इंतज़ार में…..

तुम्हारे इंतज़ार में....
तुम्हारे इंतज़ार में….

 

गलत और सही की सरहद  के पार ,

दुनिया के उस छोर पर, जहाँ आसमां  जमीं को चूमता है ,

जहाँ  वक़्त पार  है  दिन और रात के ,

उस जगह , हाँ उस ही जगह , तुम चले आना मेरे पास |

 

कुछ बात तुम को बतलानी है ,

जो तुम को न जाने कितने सदियों से सुनानी  है,

जो कब से मेरी आँखों से उड़ने को तैयार है ,

मेरी सांसो से झलकने को बेक़रार है |

 

आ जाना , ओस की चादर में लिपटे ,

सितारों की रौशनी में, मखमली हरियाली पर  मंडराते ,

चाँद जब सो रहा होगा , सूरज अभी जनमा न होगा ,

आकाश जब हल्का गुलाबी होगा,

और जमीं भी अलमस्त चलती होगी |

 

मैं बैठा वही मिलूँगा ,

आड़े तिरछे पत्थरो  की ओट में,

छोटे टीले पर , तुम्हारा इंतज़ार करता,

जहाँ पर तुमने  आने को बोला था ||

 

© Abhishek Yadav-2015

Images source www.google.co.in

2 thoughts on “तुम्हारे इंतज़ार में…..

  1. Abhishek…..it is just so fantastic! apse baat karne ka kabhi mauka nahi mil paya…. nahi pata tha k jab baat hogi, to itni khoobsurti se hogi! bahut bahut sundar shabd, bahut bahut sundar panktiyan!

    Like

I am waiting for your feedback -

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s