मेरी ज़िन्दगी

मेरी ज़िन्दगी...
मेरी ज़िन्दगी…

अच्छा लगा तुम से मिल कर ज़िन्दगी |

काफी दिनों बाद कोई अपना मिला ,

कोई नहीं बचा मेरा , ये सोच,सोच कर जिए जा रहे थे,

और गमो को जिगर में सीये जा रहे थे |

अपनी राह पर खुद को लिए जा रहे थे ,

और पैबन्द भरी खुशियो को , जमा किये जा रहे थे |

पर तुम को देख कर आंसू खिल गए ,

आत्मा और दिल मिल गए |

तुम दिव्य हो, दिव्यात्मा , या फिर मेरी आत्मा |

पता नहीं तुम कौन हो , कहाँ से आई , कहाँ को जाओगी,

पर पता है ,

जब तक रहोगी खुद हसोगी और मुझे खिलखिलाओगी|

तुम कहाँ थी ज़िन्दगी …?

अब कही मत जाना , हो सके तो रुक जाओ ,

मेरी बस्ती को कुछ वक़्त ही सही अपनाओ |

फिर चली भी जाओगी तो कोई गम नहीं ,

ये एहसास तो होगा और याद भी होगा ,

की, कभी मैने भी जीयी थी ज़िन्दगी |

Hope-vs-Faith

© Abhishek Yadav 2015

Images source www.google.co.in

Advertisements

Author: Free Spirit- Abhishek

I am a free spirit. I am living human because I not only see this entire world but also react, the response on impulses after my own observation and analysis. I write because, I see and all thing which is around me and I reacts on those small and big impulses, desires, ideas, and motivations. there are many stories, many ideas, many thoughts are in my mind, which I share via my blog My philosophy is to share what is I see, what I feel, what I imagine, what I react with people all around me, somewhere out, freelining somewhere far from me, rather than keeping within me.

I am waiting for your feedback -

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s