ज़िन्दगी

ज़िन्दगी.....
ज़िन्दगी…..

जितना तुम्हे सवारने की कोशिश की,उतना ही तुम बिखर जाती हो,

ये ज़िन्दगी मुझे ज़रा बताओ, क्यो रेत सी मेरे हाथो से तुम छूट जाती हो |

 

रोज कोशिशे करता हु तुम्हे सिरहाने रख पाने की,

पर न जाने क्या तुम्हारी नियत है, रोज उड़ जाने की ,

न चाहता हु तुम्हे काबू करना, ना ज़रूरत समझी कभी तुम्हे बरगलने की |

 

हर रोज बनती हो, रोज बिगङती हो,

हर रोज तुम्हे ज़रूरत है, नया फलक दिखलने की ,

हर रोज नया रंग, नया रूप देखा,

वो भी देखा;जो कभी नही सोचा था तुमसे पाने की |

 

फिर भी; फिर भी…ना कभी तुम से उबा, न ही थका,

न ही कभी कोशिश की तुमसे दूर जाने की ,

कभी फ़ुर्सत मिले तुम्हे;

आओ ज़िंदगी कभी मेरे पास, मेरे आगोश मे,

कुछ बाते है तुमसे समझने और समझाने की |

 

इंतेज़ार मे हू तुम्हारे,

क्यो की फ़ितरत  है मेरी सवरने की और तुम्हारी बनाने की…|

                                       ©Abhishek Yadav 2015

                                                     image source www.google.com

Advertisements

Author: Free Spirit- Abhishek

I am a free spirit. I am living human because I not only see this entire world but also react, the response on impulses after my own observation and analysis. I write because, I see and all thing which is around me and I reacts on those small and big impulses, desires, ideas, and motivations. there are many stories, many ideas, many thoughts are in my mind, which I share via my blog My philosophy is to share what is I see, what I feel, what I imagine, what I react with people all around me, somewhere out, freelining somewhere far from me, rather than keeping within me.

I am waiting for your feedback -

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s